Home खबर जानिए कौन हैं लिंगायत, क्यों हिंदू धर्म से होना चाहते हैं अलग?

जानिए कौन हैं लिंगायत, क्यों हिंदू धर्म से होना चाहते हैं अलग?

0
SHARE

कर्नाटक में विधानसभा चुनाव होने से ठीक पहले कर्नाटक की कांग्रेस सरकार ने लिंगायत समुदाय को अलग धर्म का दर्जा दिए जाने की मांग को मान लिया है. अब इस पर अंतिम फैसला केंद्र सरकार को करना है.

लिंगायत समुदाय के लोग लंबे समय से मांग कर रहे थे कि उन्हें हिंदू धर्म से अलग धर्म का दर्जा दिया जाए. कर्नाटक सरकार ने नागमोहन समिति की सिफारिशों को स्टेट माइनॉरिटी कमीशन ऐक्ट की धारा 2डी के तहत मंजूर कर लिया. अब इसकी अंतिम मंजूरी के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा जाएगा. कांग्रेस ने लिंगायत धर्म को अलग धर्म का दर्जा देने का समर्थन किया है. वहीं, बीजेपी अब तक लिंगायतों को हिंदू धर्म का ही हिस्सा मानती रही है.

कौन हैं लिंगायत और क्या हैं इनकी परंपराएं?

लिंगायत समाज को कर्नाटक की अगड़ी जातियों में गिना जाता है. कर्नाटक की आबादी का 18 फीसदी लिंगायत हैं. पास के राज्यों जैसे महाराष्ट्र, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में भी लिंगायतों की अच्छी खासी आबादी है.

लिंगायत और वीरशैव कर्नाटक के दो बड़े समुदाय हैं. इन दोनों समुदायों का जन्म 12वीं शताब्दी के समाज सुधार आंदोलन के स्वरूप हुआ. इस आंदोलन का नेतृत्व समाज सुधारक बसवन्ना ने किया था. बसवन्ना खुद ब्राह्मण परिवार में जन्मे थे. उन्होंने ब्राह्मणों के वर्चस्ववादी व्यवस्था का विरोध किया. वे जन्म आधारित व्यवस्था की जगह कर्म आधारित व्यवस्था में विश्वास करते थे. लिंगायत समाज पहले हिन्दू वैदिक धर्म का ही पालन करता था लेकिन इसकी कुरीतियों को हटाने के लिए इस नए सम्प्रदाय की स्थापना की गई.

लिंगायत सम्प्रदाय के लोग ना तो वेदों में विश्वास रखते हैं और ना ही मूर्ति पूजा में. लिंगायत हिंदुओं के भगवान शिव की पूजा नहीं करते लेकिन भगवान को उचित आकार “इष्टलिंग” के रूप में पूजा करने का तरीका प्रदान करता है. इष्टलिंग अंडे के आकार की गेंदनुमा आकृति होती है जिसे वे धागे से अपने शरीर पर बांधते हैं. लिंगायत इस इष्टलिंग को आंतरिक चेतना का प्रतीक मानते हैं. निराकार परमात्मा को मानव या प्राणियों के आकार में कल्पित न करके विश्व के आकार में इष्टलिंग की रचना की गई है.

लिंगायत पुनर्जन्म में भी विश्वास नहीं करते हैं. लिंगायतों का मानना है कि एक ही जीवन है और कोई भी अपने कर्मों से अपने जीवन को स्वर्ग और नरक बना सकता है.

लिंगायत में शवों को दफनाने की परंपरा

लिंगायत परंपरा में अंतिम संस्कार की प्रक्रिया भी अलग है. लिंगायत में शवों को दफनाया जाता है. लिंगायत परंपरा में मृत्यु के बाद शव को नहलाकर बिठा दिया जाता है. शव को कपड़े या लकड़ी के सहारे बांध जाता है. जब किसी लिंगायत का निधन होता है तो उसे सजा-धजाकर कुर्सी पर बिठाया जाता है और फिर कंधे पर उठाया जाता है. इसे विमान बांधना कहते हैं. कई जगहों पर लिंगायतों के अलग कब्रिस्तान होते हैं.

बसवन्ना के अनुयायियों का मानना है कि बसवन्ना ने जाति व्यवस्था और वैदिक परंपराओं का विरोध किया था. उनके आंदोलन का आधार ही प्रचलित हिंदू व्यवस्था के खिलाफ था. उनका मानना है कि इष्ट लिंग और भगवान बसवेश्वर के बताए गए नियम हिंदू धर्म से बिल्कुल अलग हैं. दूसरी तरफ जो लोग लिंगायत की हिंदू धर्म से अलग पहचान का विरोध करते हैं, उनका कहना है कि बसवन्ना का आंदोलन भक्ति आंदोलन की ही तरह था. उसका मकसद हिंदू धर्म की राह से अलग होना नहीं था.

बीजेपी का आरोप- हिंदुओं को बांटने का काम कर रही है कांग्रेस

लिंगायत समुदाय के भीतर लिंगायत को हिंदू धर्म से अलग पहचान देने की बात समय-समय पर दोहराई जाती रही है. पिछले दशक में यह मांग और तेज हुई है. 2011 की जनगणना के दौरान, लिंगायत समूह के कुछ संगठनों ने समुदाय के लोगों को हिंदू धर्म में रजिस्टर नहीं होने के लिए कैंपेन भी चलाए थे. स्वतंत्र धार्मिक पहचान की मांग पहली बार सार्वजनिक रूप से बीदड़ सभा में पुरजोर तरीके से की गई. इस सभा में 50,000 से ज्यादा लोग शामिल हुए थे.

आम मान्यता ये है कि वीरशैव और लिंगायत एक ही लोग होते हैं. लेकिन लिंगायत लोगों का मानना है कि वीरशैव लोगों का अस्तित्व समाज सुधारक बसवन्ना के उदय से भी पहले से था. लिंगायत समुदाय की पहली महिला साध्वी और बासव धर्म पीठ की प्रमुख माते महादेवी कहती हैं, ”बसवन्ना ने वैदिक अनुष्ठान और परंपरा को नकारा था. लेकिन वीरशैव वेदों का पालन करते हैं. वे शिव की पूजा करते हैं. यहां तक कि वे शिव की मूर्ति पूजा भी करते हैं, स्पष्ट रूप से बसवन्ना की अवधारणा ये नहीं थी.”  दूसरी तरफ, भीमन्ना ऑल इंडिया वीरशैव महासभा के पूर्व अध्यक्ष भीमन्ना खांद्रे कहते हैं कि वीरशैव और लिंगायतों में कोई अंतर नहीं है.”

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here