Home खबर 2019 में मां सोनिया की जगह रायबरेली से प्रियंका गांधी लड़ सकती...

2019 में मां सोनिया की जगह रायबरेली से प्रियंका गांधी लड़ सकती हैं चुनाव -सूत्र

0
SHARE

नई दिल्ली: आगामी आम चुनाव में आठ महीने से भी कम वक्त बचा है ऐसे में सत्ताधारी बीजेपी और विपक्षी पार्टी अपनी-अपनी तैयारियों में जुटती नजर आ रही हैं. सबसे बड़े विपक्षी दल कांग्रेस की 2019 चुनावों को लेकर तैयारियां कैसी होंगी इस पर चर्चा के बीच खबर है प्रियंका गांधी रायबरेली से चुनाव लड़ सकती हैं. कांग्रेस के शीर्ष सूत्रों के मुताबिक प्रियंका के चुनाव लड़ने की संभावना को नकारा नहीं जा सकता. वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के हवाले से सूत्रों का कहना है कि रायबरेली से कौन चुनाव लड़ेगा इस बारे में अभी सोनिया गांधी से बात होनी है. उनसे बातचीत के बाद ही किसी तरह का निर्णय लिया जाएगा.

रायबरेली कांग्रेस की पारंपरिक सीट है जिसपर गांधी परिवार का ही सदस्य अबतक चुनाव लड़ता रहा है. मौजूदा वक्त में सोनिया गांधी यहां की सांसद हैं और खबर है कि वो इस सीट पर किसी उचित विकल्प की तलाश में हैं और प्रियंका गांधी इस सीट पर चुनाव लड़ सकती हैं. इससे पहले प्रियंका गांधी मां सोनिया और भाई राहुल गांधी के लिए रायबरेली और अमेठी में चुनाव प्रचार कर चुकी है और लोगों के बीच की लोकप्रियता काफी ज्यादा है.

यूपी में कांग्रेस और सपा-बसपा के बीच गठबंधन की खबरें

यूपी में गठबंधन पर एसपी-बीएसपी और कांग्रेस में सैद्धांतिक सहमति बन गई है. कांग्रेस के सूत्रों के अनुसार गठबंधन सिर्फ अमेठी रायबरेली तक सीमित नहीं रहेगा. सीटों के बंटवारे पर अभी बात होनी है. इस सहमति के बाद राजनीतिक और जनसंख्या के लिहाज से देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में राजनीतिक पारा चढ़ सकता है.

सूत्रों के मुताबिक यूपी में गठबंधन को लेकर एक रणनीतिक समझ बन चुकी है. सीटों के बंटवारे पर अभी बात होनी है. 2019 के चुनाव में प्रधानमंत्री बनने के लिए नरेंद्र मोदी और बीजेपी को 230-240 सीटों की ज़रूरत होगी. अगर इससे कम सीट आती हैं तो बीजेपी को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है.

बीजेपी के खिलाफ व्यापक गठबंधन को लेकर प्रमुख विपक्षी दलों में एक भाव है कि अपने-अपने क्षेत्र में ताकत के साथ चुनाव लड़ना है. बीजेपी के खिलाफ़ महागठबंधन और नेतृत्व की प्रक्रिया दो स्तर की है. पहले अपने गढ़ में चुनाव लड़ें और फिर जीतकर आई सीटों के आधार पर फैसला हो कि प्रधानमंत्री कौन होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here