Home खबर राष्ट्रपति कोविंद ने देश में डॉक्टरों की कमी पर जताई चिंता

राष्ट्रपति कोविंद ने देश में डॉक्टरों की कमी पर जताई चिंता

0
SHARE

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश में डॉक्टरों की कमी पर चिंता जताई है। एम्स के दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने पर्याप्त संख्या में डॉक्टरों की उपलब्धता बढ़ाने के लिए तत्काल जरूरी कदम उठाने पर बल दिया। इसके साथ ही उन्होंने डॉक्टरों से भी इलाज के दौरान अमीर और गरीब के बीच फर्क नहीं करने की अपील की।

राष्ट्रपति ने कहा कि इस समय देश में निजी और सरकारी दोनों मेडिकल कॉलेजों से हर साल 67 हजार एमबीबीएस और 31 हजार पोस्टग्रेजुएट डॉक्टर पास हो कर आ रहे हैं। लेकिन 130 करोड़ की जनसंख्या वाले देश में इलाज के लिए डॉक्टरों की यह संख्या काफी कम है।

उन्होंने कहा कि कुछ निहित स्वार्थ के कारण मेडिकल कालेजों में सीटें नहीं बढ़ने दी जाती हैं। सरकार की मेडिकल कालेजों में सीटों को बढ़ाने की राह की बाधाओं को तत्काल दूर करने के लिए कदम उठाना होगा।

राष्ट्रपति के अनुसार देश में मेडिकल सीटों की कम संख्या की वजह से बहुत सारे बच्चे दूसरे देशों में जाकर पढ़ाई के लिए मजबूर हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश में जो भी चिकित्सा के क्षेत्र में आकर आम लोगों की सेवा करना चाहता है, उन्हें इसका अवसर मिलना ही चाहिए।

राष्ट्रपति ने कहा कि देश में थोड़े से डॉक्टरों पर पूरी आबादी के इलाज की बड़ी जिम्मेदारी है। इन डॉक्टरों को अब मदद की जरूरत है। इसके सहयोगियों की संख्या बढ़ाकर, इनका बोझ कम कर इनकी मदद की जा सकती है।

एम्स के डॉक्टरों को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने उन्हें इलाज के दौरान गरीब और अमीर के बीच फर्क नहीं करने की भी अपील की। उन्होंने कहा कि बीमारी गरीबी और अमीरी देखकर नहीं आती है, लेकिन इससे सबसे अधिक प्रभावित गरीब आदमी होता है। डॉक्टर को हर जरूरतमंद का इलाज समान भाव से करना चाहिए ताकि आम आदमी का उनपर भरोसा बरकरार रख जा सके।

राष्ट्रपति ने देश में सभी बच्चों को पूर्ण टीकाकरण नहीं होने पर भी चिंता जताई। उनका कहना था कि भारतीय कंपनियां पूरी दुनिया में टीके की सप्लाई करती है। लेकिन हम अपने देश में ही सभी बच्चों को इसे उपलब्ध कराने में असमर्थ रहे हैं, खासकर दूरदराज के दुर्गम इलाकों में यह नहीं पहुंच पा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here