Home कारोबार बवाना कांड पर बढ़ी सियासत… तो 50 हजार फैक्ट्रियों पर आएगी आफत

बवाना कांड पर बढ़ी सियासत… तो 50 हजार फैक्ट्रियों पर आएगी आफत

0
SHARE

राजधानी दिल्ली से साल-दर साल आग की खबरें आती रहती हैं, लेकिन शनिवार शाम बवाना इंडस्ट्रियल एरिया में जो घटना हुई उसने सबको हिलाकर रख दिया. एक पटाखा फैक्ट्री में आग लगने से 17 बेकसूर मजदूरों की मौत हो गई. हादसे के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी घटनास्थल पहुंचे तो इस पर राजनीतिक बयानबाजी भी होने लगी. सरकार ने जांच के आदेश दिए और बीजेपी भी बयानों से सख्त नजर आ रही है. ऐसे में सवाल ये है कि क्या इलाके में चल रहीं 50 हजार अवैध फैक्ट्रियों पर गाज गिरेगी?

दरअसल, अवैध फैक्ट्रियों की ये संख्या दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल ने ट्वीट करते हुए गंभीर सवाल भी उठाए हैं. स्वाती ने ट्वीट में लिखा है, ‘हाथ पे जलते हुए तेल की बूंद पड़े तो इंसान तिलमिला जाय. बवाना में 17 लोग जल के मरे, उन्होंने अपने आखरी पलों में नर्क झेला. कौन जिम्मेदार है इस परिस्थिति के लिए? बता रहे हैं 50,000 ऐसी अवैध फैक्ट्री बवाना में चल रही हैं. ऐसा नहीं हो सकता कि ये सिस्टम के मिलीभगत के बिना चल रही हो.

स्वाती मालीवाल ने अवैध फैक्ट्रियों पर सिस्टम की मिलीभगत से चलने का आरोप लगाया है. दरअसल, जिस पटाखा फैक्ट्री में आग लगी है, उससे जुड़ी जानकारी में भी लापरवाही और नियमों के उल्लंघन की बात सामने आ रही है. बताया जा रहा है कि फैक्ट्री को गुलाल बनाने का लाइसेंस मिला है, लेकिन यहां पटाखों की पैकिंग हो रही थी. साथ ही फैक्ट्री को फायर सेफ्टी का एनओसी भी नहीं मिला हुआ है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here