Home खबर नेताओं का मजाक उड़ाने पर नहीं हुई खिलौनेवाले अवधेश दुबे की गिरफ्तारी,...

नेताओं का मजाक उड़ाने पर नहीं हुई खिलौनेवाले अवधेश दुबे की गिरफ्तारी, रेल मंत्रालय ने बताई वजह

0
SHARE

ARUN THAKUR(SHIPRA DARPAN)

हाइलाइट्स

  • रेल मंत्रालय ने पत्र जारी कर बताई खिलौनेवाले अवधेश दुबे की गिरफ्तारी की वजह
  • अनाधिकृत रूप से सामान बेचने को लेकर उन्हें दी गई है सजा, 3500 रुपये भरना होगा जुर्माना
  • खिलौनेवाले अवधेश दुबे का खास अंदाज सोशल मीडिया पर जमकर हुआ वायरल
  • नेताओं का मजाक उड़ाकर ट्रेन में बेच रहे थे सामान, लोगों ने खूब पसंद किया विडियो
सूरत
गुजरात के सूरत में ट्रेन के अंदर मजाकिया लहजे में खिलौने बेचने वाले अवधेश दुबे का एक विडियो सोशल मीडियापर जमकर वायरल हुआ। अवधेश, जिस तरह से बिक्री कर रहे थे, वह अंदाज लोगों ने खूब पसंद किया। इसके बाद शनिवार को उन्हें रेलवे पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया और जेल भेज दिया गया। इस पर लोगों ने नाराजगी जताई और अनुरोध किया कि अवधेश को छोड़ दिया जाना चाहिए। हालांकि, रेलवे पुलिस ने स्पष्ट किया है कि अवधेश दुबे की गिरफ्तारी नेताओं पर हंसी-मजाक को लेकर नहीं की गई है।

रेल मंत्रालय द्वारा ऑफिशल ट्विटर अकाउंट से एक पत्र जारी करते हुए बताया गया है कि आरपीएफ सूरत ने अवधेश दुबे को अनधिकृत लोगों पर चलाए गए अभियान के तहत गिरफ्तार किया है। उन पर 144(A), 145 (B) और रेलवे ऐक्ट के अंतर्गत 147 के तहत कार्रवाई की गई है। अवधेश को कोर्ट में पेश भी किया गया है।

जारी किया गया यह पत्र

अवधेश ने मैजिस्ट्रेट के सामने कबूला गुनाह
रेलवे मैजिस्ट्रेट ने डिफॉल्टर (अवधेश दुबे) का पिछला रेकॉर्ड वेरिफाई किया, जिसमें यह पाया गया कि उन्होंने अनधिकृत तरीके से 12वीं बार ट्रेन में इस प्रकार का जुर्म किया है। अवधेश ने मैजिस्ट्रेट के सामने भी इस बात को कबूल किया कि वह अनधिकृत तौर पर वर्ष 2005 से सामान की बिक्री करते चले आ रहे थे। रेलवे मैजिस्ट्रेट ने ऐसे लोगों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई करते हुए उन्हें 10 दिन की कैद और 3,500 रुपये का जुर्माना लगाया है। यहां गौर करने वाली बात यह भी है कि इस तरह के मामलों में रेलवे मैजिस्ट्रेट ने तीस दिनों तक की सजा दी है।

पहले भी अवधेश पर लिया जा चुका है ऐक्शन
बता दें कि सूरत आरपीएफ द्वारा अनधिकृत विक्रेताओं पर की गई यह रूटीन कार्रवाई थी, जिसके अंतर्गत मई महीने में 8 अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था। यहां इस बात का जिक्र प्रमुख रूप से किया गया है कि अवधेश दुबे को पहले भी 11 बार इसी गुनाह के लिए गिरफ्तार किया जा चुका है। अवधेश पर 7 बार वलसाड और 4 बार सूरत में कार्रवाई की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here