Home खबर कांग्रेस: हार के लिए बनाई कमिटी दुखड़े सुनने को तरसी

कांग्रेस: हार के लिए बनाई कमिटी दुखड़े सुनने को तरसी

0
SHARE

अपनी बैठक बुलाई है, जिसके बाद वह अपनी रिपोर्ट फाइनल कर देगी। वैसे जो नेता दुखड़ा सुनाने के लिए आए हैं, उनकी शिकायत है कि चुनाव में पार्टी की यूथ विंग ने प्रभावी काम नहीं किया और चुनाव के दौरान लोकल स्तर भी कई नेता घर बैठे रहे। इस बात की संभावना है कि कमिटी अपनी रिपोर्ट में यूथ कांग्रेस के चयन की प्रक्रिया में बदलाव की सिफारिश तो करेगी ही साथ ही कुछ नेताओं के नाम उजागर कर उनके खिलाफ एक्शन की मांग भी करेगी।
सूत्र बताते हैं कि यह कमिटी 9 जून को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित को अपनी रिपोर्ट पेश कर देगी। इस रिपोर्ट को पार्टी हाईकमान को भेजा जाएगा और उसकी संस्तुति के अनुसार ही आगे की कार्यवाही होगी। वैसे तो इस लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने पिछली चुनाव की अपेक्षा प्रभावी प्रदर्शन किया था, उसके बावजूद उसके सातों प्रत्याशियों को हार का सामना करना पड़ा। लेकिन कांग्रेस के लिए संतुष्टि की बात यह रही कि इस लोकसभा चुनाव में पार्टी के पांच प्रत्याशी दूसरे नंबर पर रहे। वरना पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी तीसरे नंबर पर रहे थे, और उनमें से चार की जमानत जब्त हो गई थी। इस हार की समीक्षा के लिए पिछले दिनों अध्यक्ष शील दीक्षित ने पांच सदस्यीय कमिटी का गठन किया था, जिसमें पार्टी नेता योगानंद शास्त्री, परवेज हाशमी, डॉ़ एके वालिया, पवन खेड़ा व जयकिशन को शामिल किया गया।
इस कमिटी के एक सदस्य के अनुसार अभी तक वह दो बैठकें कर चुकी हैं। लेकिन दुख की बात यह है कि इन बैठकों में सात हारे हुए प्रत्याशियों में से मात्र दो राजेश लिलोठिया व बिजेंदर सिंह ने ही अपनी हार के कारणों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पहली बैठक के बाद ही उन्होंने बाकी पांचों प्रत्याशियों को बैठक में आने के लिए कहा था, लेकिन शनिवार को दोबारा हुई बैठक में एक भी प्रत्याशी पेश नहीं हुआ। वैसे दो प्रत्याशियों का संदेश मिला कि वे दिल्ली से बाहर हैं, इसलिए बैठक में नहीं आ सके। सूत्र बताते हैं कि इस बैठक में 14 में 11 जिलाध्यक्ष भी पेश हो चुके हैं और उन्होंने जानकारी दी कि चुनाव के दौरान इलाके के कौन-कौन से नेता घर बैठ गए या उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी के खिलाफ काम किया। सूत्र बताते हैं कि इन जिलाध्यक्षों ने ऐसे नेताओं की लिस्ट लिखित में कमिटी के सुपुर्द की है।
प्रदेश कांग्रेस से मिली जानकारी के अनुसार कमिटी ने परसों एक बार फिर से बैठक का आयोजन किया है, जिसमें बचे प्रत्याशियों, जिलाध्यक्षों व चुने हुए ब्लॉक अध्यक्षों को भी बुलावा भेजा गया है। वैसे सूत्र बताते हैं कि कमिटी तक जो हार के कारण पहुंचे हैं, उनमें बताया गया है कि इलाके में यूथ कांग्रेस के नेताओं ने गंभीरता नहीं दिखाई, इसके अलावा पार्टी के कुछ बड़े नेता भी चुनाव में शांत रहे। सूत्रों के अनुसार कमिटी 9 जून को अपनी रिपोर्ट सौंप सकती है। इसमें यूथ कांग्रेस के नेताओं के चयन में बदलाव की संस्तुति की जाएगी, साथ ही कुछ छोटे बड़े नेताओं को नामित कर उनके खिलाफ एक्शन की भी गुजारिश होगी। कमिटी यह भी सुझाव देगी कि आने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रदेश कांग्रेस जल्द अपनी टीम का भी गठन करे ताकि नेता और कार्यकर्ता चुनाव की तैयारी में जुट जाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here